ગરવી ગુજરાત

ગરવી ગુજરાત ડોટ કોમ એ અમો એ ગુજરાતી ભાષાના ચાહકો માટે ખોલેલું નવા જમાનાનું નવા પ્રકારનું પરબ છે.
આ પરબમાં તમે ભલે પધાર્યા! તમારું સ્વાગત છે. આ પરબમાં તમને જે ગમે તે, મન થાય ત્યારે માણતા રહેજો અને બીજાને ખુશી ખુશી આપતા રહેજો.

' आक्रमण के हथियार बदल गये हैं '- भाग २

' आक्रमण के हथियार बदल गये हैं '- भाग २
हथियार बदल गए हैंयह घटना एक परिचित के साथ घटी थी,उन्होंने बाद में सुनाया था।जब गृह प्रवेश के वक्त मित्रों ने नए घर की ख़ुशी में उपहार भेंट किए थे।अगली सुबह जब उन्हेंने उपहारों को खोलना शुरू किया तो उनके आश्चर्य का ठिकाना नहीं था!एक दो उपहारों को छोड़कर बाकी सभी में लाफिंग बुद्धा, फेंगशुई पिरामिड, चाइनीज़ ड्रेगन, कछुआ, चाइनीस फेंगसुई सिक्के, तीन टांगो...
Rate this blog entry:
Continue reading
146 Hits
0 Comments

एक जमाने में जब भारत में सनीमा नही था तब कहानियों और किस्सों पर नौटंकियां बनती थी

यह संजय भंसाली क्या पिटा की सारे तथाकथित सेक्युलर, बुद्धजीवी, कलाकार और फ़िल्मी जमात 'सृजनात्मकता का अधिकार', सिनेमेटिक क्रिएटिविटी का झंडा बुलन्द किये कूद पड़े है। उन्हें इतिहासिक चरित्रों को, तोड़ मोड़ कर गाने अफसानो से थाली पर सजा कर जनता को पेश करने की आज़ादी चाहिए है। उन्हें हिंदुत्व के प्रतीकों से छेड़ खानी करने का अधिकार चाहिए है। इन भारत की संस्क...
Rate this blog entry:
Continue reading
173 Hits
0 Comments

'अल्टरनेट व्यू' पर थप्पड़ नहीं लगता साहब, 'डबल स्टैंडर्ड' पर लगता है !

'अल्टरनेट व्यू' पर थप्पड़ नहीं लगता साहब, 'डबल स्टैंडर्ड' पर लगता है !
ध्यान से पढे़ । और अधिक से अधिक शेयर करें। 👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇👇 'अल्टरनेट व्यू' पर थप्पड़ नहीं लगता साहब, 'डबल स्टैंडर्ड' पर लगता है ! कहते हैं सिनेमा समाज का आईना होता है, ठीक वैसे ही जैसे साहित्य समाज का आइना होता है. फिर ये आइना अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर इतिहास को तोड़ने-मरोड़ने की छूट कैसे दे देता है ? "...यहां प्रताप का वतन पला है आज़ादी...
Rate this blog entry:
Continue reading
215 Hits
0 Comments

क्या हिन्दू समाज संजय लीला भंसाली के सेक्युलर हृदय को भय से भरेगा ?

दुष्ट सेक्युलर भाड़ निर्देशिका द्वारा इतिहास को विकृत कर जोधा अकबर नाटक बनाये जाने के बाद अब दूसरे एक और सेक्युलर संजय लीला भंसाली द्वारा मुस्लिम आक्रान्ता अल्लाउदीन खिलजी पर फ़िल्म बनाने की घोषणा की गई है। इस फ़िल्म में भंसाली आक्रान्ता खिलजी द्वारा रानी पद्मावती पर बुरी नियत रखने वाले खिलजी को अथाह प्रेमी के रूप में दिखाने की योजना है। यह प्रयास न ...
Rate this blog entry:
Continue reading
187 Hits
0 Comments

फ़ौज के लिए ये अच्छे लक्षण नहीं

फ़ौज के लिए ये अच्छे लक्षण नहीं
मुझे अपने बचपन का वो किस्सा याद आता है जब 1971 की लड़ाई अभी बस ख़त्म ही हुई थी ।पिता जी की regiment कश्मीर के छम्ब ज्योड़ियां sector में posted थी । जम्मू से आगे अखनूर जिले में छम्ब और ज्योड़ियां नामक दो गाँव हैं जो पकिस्तान सीमा से लगते हैं । बताया जाता है कि 1971 में इस छम्ब sector में भीषण युद्ध हुआ था ।जिस समय युद्ध चल रहा था , हम लोग मने परिवार पठ...
Rate this blog entry:
Continue reading
264 Hits
0 Comments

અમુક તમુક આલેખો

​એક રજકણ સૂરજ થવાને શમણે ઉગમણે જઈ ઊડે પલકમાં ઢળી પડે આથમણે...
Rate this blog entry:
પ્રકરણ – 35 અતીતનાં એંધાણસ્વપ્ન અને જાગૃત અવસ્થાની વચ્ચે ઝોલાં ખાતા ગોવાને એની ઝુંપડીની બહાર કોઈ દર્દથી કણસતું હોય તેવો ભાસ થયો. ભળભાંખળું થવામાં હતું. એનો ઉઠવાનો સમય પણ થઈ ચુક્યો હતો. ગોવો આંખો ...
Rate this blog entry:
પ્રકરણ -3 : તરવૈયો​પુર તો ક્યારનુંય ઓસરી ગયું હતું. નદીનો છીછરો ભાગ હવે બહુ થોડોક જ હતો. ગોવાએ કાંઠેથી છીછરા ભાગમાં ચાલવા માંડ્યું. સહેજ જ આગળ વધ્યો અને એકદમ તેના પગ નીચેની ધરતી સરકી ગઈ. તેણે તરત...
Rate this blog entry:
માનો ગરબો રે, રમે રાજને દરબાર​
Rate this blog entry:
તરણા ઓથે ડુંગર રે, ડુંગર કોઈ દેખે નહીં; અજાજૂથ માંહે રે, સમરથ ગાજે સહી​...
Rate this blog entry: